Loading

स्व-निर्देशित सीखना

PCGE में शिक्षक छात्रों के लिए भयमुक्त वातावरण बनाते हैं, उन्हें प्रश्न पूछने के लिए प्रेरित करते हैं उनकी सहभागिता की प्रशंसा करते हैं। उनके लिए समूह-चर्चा, क्विज़ आदि का आयोजन करते हैं और विद्यार्थियों को व्यक्तिगत और समूहगत प्रस्तुतियों के लिए आमंत्रित करते हैं। उनकी प्रस्तुतियों के लिए उन्हें प्रोत्साहित करने के लिए पुरस्कार भी देते हैं।

       PCGE के शिक्षकों का यह भावनात्मक व्यवहार विद्यार्थियों को सीखने और जीवंत रहने के लिए संबल प्रदान करता है। विद्यार्थियों को प्रस्तुति के लिए एक या दो दिन का समय दिया जाता है क्योंकि ‘स्टूडेंट प्रेजेन्टेशन डे’ वाले दिन शिक्षक पढ़ाते नहीं हैं बल्कि विद्यार्थी ही व्हाइट बोर्ड या PPT से प्रेजेन्टेशन देते हैं।

       PCGE के संस्थापकों ने सरकारी शिक्षकों को प्रशिक्षण देने का एक समृद्ध अनुभव प्राप्त किया है अत: उन्होंने यह निष्कर्ष निकाला है कि ज्ञान और कौशल का आत्मीयकरण तभी हो सकता है जब एक विद्यार्थी सकारात्मक हो और रचनात्मकता के साथ सक्रिय हो। इसी अनुभव को PCGE के संस्थापकों ने यहाँ की शिक्षण-पद्धति के रूप में अपनाया है इसीलिए PCGE ने शिक्षकों और विद्यार्थी दोनों के लिए ज्ञान और कौशल के प्रभावी आदान-प्रदान हेतु प्रशिक्षण की व्यवस्था की है जो विद्यार्थी और शिक्षक के लिए लाभकारी रही है।